Tag Archives: kranti

अठवा अनुच्छेद – शांति से क्रांति

अठवा अनुच्छेद – शांति से क्रांति ईश्वर से मिलने की चाह का मूल कारण profit without investment होता है , profit का रूप कोई भी हो सकता है ! भक्ति , मनोकामना , जन कल्याण परंतु हर रूप के गर्भ … Continue reading

Posted in Peace, Revolution | Tagged , , , , , , , , , , , | Leave a comment

चौथा अनुच्छेद – शांति से क्रांति

चौथा अनुच्छेद – शांति से क्रांति अगर सवालो के उत्तर ना मिले तो स्थिति संकटपूर्ण हो जाती है , स्थिति से मेरा तात्पर्या अंतर्मन से है! बाहर दुनिया मे कोई तांडव उत्पन नही होता , पर अंदर से ऐसा लगता … Continue reading

Posted in Peace, Revolution | Tagged , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

तीसरा अनुच्छेद – शांति से क्रांति

तीसरा अनुच्छेद – शांति से क्रांति अपने भय से पार पाने के लिए ,हर उस ड्योढी को खटकाया है, जिस तक पहुँच सका ! अनेको बार मित्रो द्वारा मध्यस्थ किए हुए या घर एवं रिश्तेदारो द्वारा मध्यस्थ किए , ज्ञानीओ … Continue reading

Posted in Peace, Revolution | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

अंधियारा..

मैं..मेरा..हमारा… फिर तू कौन है यारा… हर बंधन से छुटकारा … अंधियारा..प्यारा..सारा… हर पथ दे इशारा..अस्वीकारा.. घना, अंधियारा..अंधियारा.. अंधियारा.. राहुल देवेश्वर

Posted in Uncategorized | Tagged , , , , , , , | Leave a comment